Saturday, 1 December 2018

असम की बेरोजगारी के 5 मूल कारण (5 Main Causes of Unemployment Problem in Assam)


असम की बेरोजगारी के 5 मूल कारण (5 Main Causes of Unemployment Problem in Assam)

बेरोजगारी एक बहुत ही बड़ा समस्या है। खास करके आज कल के समय में तृतीया बिस्व के देशो में ये एक बड़ा समस्या बनता जा रहा है। केबल यही नहीं अमेरिका जैसे प्रथम बिस्व के देश भी आज इस समस्या से जुज रहा है।

लकिन क्यों ? आज हम इस क्यों का ही जवाब ढूंढ़ने की कोसिस करेंगे। लकिन अमेरिका को केंद्र करके नहीं बल्कि एक तृतीया बिस्व के देश भारत के एक राज्य असम केंद्र करके इस समस्या के बारे में जानने की कोसिस करेंगे।

मई सोचता हूँ की भारत की बेरोजगारी जैसा समस्या को जानने के लिए असम राज्य से बेहतर और कोई भी राज्य नहीं हो सकती। तो चलिए इस लेख में असम की बेरोजगारी के 5 मूल कारणो (5 Main Causes of Unemployment Problem in Assam) को जानने की कोसिस करते है।


1. जनसख्या बृद्धि (Population Growth): -  सबसे पहला कारन तो है जनसंख्या बृद्धि। आज के समय में असम राज्य की जनसंख्या 3.5 करोड़ से भी ज्यादा है। लकिन यहाँ जिस तरह जनसंख्या बढ़ रहा है उस तरह नियोजन नहीं बढ़ रहा है। 

यही पर एक चौकाने वाली बात आपको बता देता हु की ये जो बृद्धि है वो यहाँ के स्थानीय लोगो की बृद्धि नहीं है। बल्कि असम में भारत के आस-पास के दूसरे देशो से अबैध प्रवजन होने के कारण ये बृद्धि हो रही है। 

तो जनसख्या बृद्धि (Population Growth) इस समस्या का सबसे पहला कारण है।



2. उद्योगीकरण का धीर गति से बिकाश (Less Industrialization) : - असम भारत का वो राज्य है जिनमे बहुत सारे प्राकृतिक सम्पदा तो है लकिन उन प्राकृतिक सम्पदो को व्यबहार करने हेतु ज्यादा उद्यौगिक बिकाश नहीं हुआ है। 

इस बिकाश ना होने का भी बहुत सारा कारण है, इनमे प्रधान कारण है भारत के मूल भूमि से इसका पिछड़ा हुआ अवस्था। असम तथा अन्य उत्तर-पूर्बी राज्य भारत के मूल भूमि से लगभग पिछड़ा हुआ सा है। 

जिसके कारण भारत के केंद्रीय सरकार इस जगह के बिकाश में ज्यादा ध्यान नहीं दे पाते। ज्यादा उद्यौगिक बिकाश ना होने के कारण ज्यादा नियोजन भी नहीं हो पाता है तथा बेरोजगारों को रोजगारी भी नहीं मिल पाता है।

उद्योगीकरण का धीर गति से बिकाश होने का और भी कई कारन है जैसे की चरमपंथी कार्यकलाप, कारिकारी दक्षता का अभाव इत्यादि।

Related Posts: -
  1. Samaj me Andhvishwas in Hindi
  2. Bhartiya samaj aur andhvishwas in hindi
  3. bharat me kanya bhrun hatya ke karan
  4. Manav samaj me bhrashtachar ke prabhav
  5. social problems in India


3. कारिकारी दक्षता का अभाव (Unskilled Labor): - ये बात सच्च है की सरकार हर एक व्यक्ति को नियोजन नहीं दे सकता। लकिन क्या ये सबके लिए सही है की हमेशा ही सरकार के लिए आशा करते रहे की सरकार हमें नियुक्त करेगा। 

मई सोचता हु बिलकुल नहीं। ये हमारी खुदकी जिम्मेदारी है की हम अपने जीवन को सुन्दर रूप से गठन करे, लकिन अगर आप सोचते हो की सरकार ही सबकुछ करे तो आपके बिफलता के लिए बाद में आप खुद ही जिम्मेदार होंगे।   

क्या आपको पता है की असम के ज्यादातर नौजवान करिकारी दिशा में काफी दुर्बल है ? ज्यादातर लोगो को यहाँ कंप्यूटर की ज्ञान है और ना ही ज्ञान है किसी अन्य मशीन को सही ढंग से चलाना। 

इसके कारन ज्यादातर नौजवान खुद की आमदानी के लिए ज्यादातर काम नहीं कर पाते और आज कल का जमाना तो कंप्यूटर और मशीनो का है। कारिकारी दक्षता का अभाव (Unskilled Labor) भी असम की इस सामाजिक समस्या के लिए अन्यतम जिम्मेदार है।



4. दुर्बल शिक्षा व्यबस्था (Poor Education System): - अगर आप असम की शिक्षा व्यबस्था को अध्ययन करोगे तो आपको देखने मिलेगा की असम राज्य का शिक्षा व्यबस्था बास्तब से काफी भिन्न है। 

यहाँ किसी छात्र को ये नहीं सिखाया जाता की कैसे नियोग सृस्टि किआ जाता है बल्कि ये सिखाया जाता है की कैसे नियोजित हुआ जाये। 

बहुत दुःख की बात है की हर साल लाखो छात्र-छात्राये कॉलेज पास करते है लकिन किसी को भी ये सोच नहीं आता की कैसे खुद की कंपनी या व्यब्साई सुरु की जाये इसके बदले सब एहि सोचते है की कैसे किसी सरकारी बिभाग में नौकरी लिआ जाये।

आप जरा खुद सोचके देखिए ऐसे व्यबस्था में कैसे बेरोजगारी की समस्या समाधान करना संभव हो पायेगा।



5. उच्चआकांक्षा का अभाव (Lack of Burning Desire) : - किसी महान व्यक्ति ने सच कहा है की हम जैसा सोचते है वैसा ही हमें मिलता है। ये बात असम राज्य के नोजवान लड़के और लड़कीओ के साथ बहुत ही ज्यादा मिलता जुलता है। 

किसी सरकारी दफ्तर में नौकरी मिल जाये ये काफी है, कभी भी ये नहीं सोचते की हमें दुनिआ को या अपने समाज को अपने कार्य से प्रभाबित करना है। हमें इतना पैसा कमाना है की हम अपने समाज के समस्याओ को ख़तम कर सके। इस तरह के उच्चआकांक्षा असम राज्य के नोजवान लड़के और लड़कीओ में बहुत ही कम देखे जाते है।

दुनिआ या अपने समाज को प्रभाबित करने के लिए व्यक्ति के अंडर उच्चआकांक्षा का मौजूद बहुत ही जरूरी होता है। 

अगर ऐसा उच्चआकांक्षा नहीं होगा तो किस तरह कोई व्यक्ति अपने समाज के लिए कुछ अच्छा करके जायेगा। मई सोचता हु असम के बेरोजगारी की समस्या के लिए ये करक भी अन्यतम जिम्मेदार है।