Friday, 8 February 2019

आधुनिकीकरण के लाभ और हानि

आधुनिकीकरण के लाभ और हानि


किसी सोच को साधारण भाषा में 'वाद' या 'ism' कहाँ जाता है और जब उस सोच को मानव समाज में कार्यकारी किआ जाता है तब उसी को 'करण' या 'zation' कहाँ जाता है।

दोस्तों आधुनिकतावाद एक सोच है जो यौक्तिक, वैज्ञानिक तथा सामाजिक कल्याण के ऊपर प्रतिष्ठित है और जब उस आधुनिकतावादी सोच को मानव समाज में प्रयोग किआ जाता है तब उसी को आधुनिकीकरण कहाँ जाता है।

दोस्तों बहुत सारे लोगो के मनमे ये गलत धारणा है की आधुनिकीकरण के कारण मानव समाज में जिस तरह उपकार हो रहा है, उसी तरह अपकार भी हो रहा है।
adhunikikaran ke labh aur hani

लकिन दोस्तों मई आपको बता देना चाहता हु की आधुनिकीकरण मानव समाज के लिए अपकारी हो ही नहीं सकता, क्योकि ये पूरा संकल्पना ही मानव कल्याण के ऊपर प्रतिष्ठित है। और अगर कभी अपकार होता भी है तो वो आधुनिकीकरण नहीं कहलायेगा, हो सकता है वो पश्चिमीकरण हो या फिर कुछ और।

उदाहरण के रूप में: - आधुनिकीकरण मानव स्वतंत्रता को समर्थन करता है लकिन अगर कोई व्यक्ति उस स्वतंत्रता को भोग करने के चक्कर में किसी दूसरे इंसान की स्वतंत्रता को भंग करता है तो वो आधुनिक सोच या आधुनिकीकरण नहीं कहलायेगा।

दोस्तों ज्यादा गंभीरता तक गए बिना इससे जुडी कुछ लाभ और हानिओ के बारे में जानने की कोसिस करते है। तो चलिए अधुनिकीकरण के लाभ से सुरु करते है।

धुनिकीकरण के लाभ

1. यौक्तिक सोच का विस्तार: - मानव समाज में पहले की समय में अंधविस्वास, कु-संस्कृति इत्यादि का प्राधान्य बहुत ही ज्यादा था। लोग ये नहीं सोच पाते थे की प्राकृतिक घटनाये क्यों और कैसे होती है ? समाज ये सोचते थे की ये सारे घटनाये कोई अतिमानवीय शक्ति, भुत-प्रेत इत्यादि करते थे।

लेकिन जबसे मानव समाज में आधुनिक सोच का विस्तार होने लगा तबसे लोग ये समझने लगे की कोई भी प्राकृतिक-सामाजिक घटना यूही नहीं होती या कोई भुत-प्रेत नहीं करती; इसके पीछे कोई विशेष कारण होती है, जिसको ढूंढ़ना संभव है।

यौक्तिक सोच के विस्तार के कारण मानव समाज से कोई सारे समस्या जैसे तंत्र-मंत्र, बलि-विधान इत्यादि कम होने लगी।

Related Articles: -


2. गणतंत्र का विकाश: - आधुनिकतावाद के जनम से पहले दुनिआ में राजतंत्र तथा एक नायक शासन का प्राधान्य था। देश या समाज के शासन में सामान्य नागरिको के अंश ग्रहण का कोई भी अधिकार नहीं था।

लकिन 17 वी शताब्दी से 19 वी शताब्दी तक हुए अधिनिकीकरण के विकाश के कारण दुनिआ में राजतन्त्र का पतन होने लगा तथा गणतंत्र विकशित होने लगा। राजनैतिक व्यबस्था में गणतंत्र का विकाश आधुनिकीकरण का एक महान उपहार है। उदाहरण: - ब्रिटैन, अमेरिका और पश्चिमी यूरोप।


3. जीवन-यापन का उन्नत मान: - आज उद्पादन व्यबस्था अत्यंत आधुनिक है। पहले किसी चीज़ को उद्पादन करने में अगर 10 दिन लगता था आज 1 दिन समय भी नहीं लगता।

लोग कम समय के अंदर अधिक उन्नत मान के सामग्री उद्पादन करने में आज शक्षम हो गए है, जिसमे आधुनिक यंत्रो का मुख्य भूमिका है। इसके कारणवर्ष आज समाज उन्नत मान का जीवन-यापन करने में शक्षम हो पा रहे है। ये भी आधुनिकीकरण का ही देन है।

उदाहरण: - आज से 100 साल पहले 30 किलोमीटर दूर किसी जगह पर पैदल से जाने के लिए पूरा दिन लगता था लकिन आज वही 30 किलोमीटर दूर सफर को गाड़ी या मोटरसाइकिल से पूरा करने में 2 या 3 घंटा समय ही लगता है।


4. तेज आर्थिक प्रगति: - आज हम 21 वी शताब्दी में वास करते है। इस 21 वी शताब्दी में बाजार व्यबस्था ऐसा हो सुका है की घर बैठे ही एक व्यापारी पूरी दुनिआ में अपना व्यापार कर सकता है।

फेसबुक, गूगल, shopify ये सारे माध्यम आज डिजिटल व्यापार का एक एक जरिआ बनता जा रहा है। एहि वो कारण है जिसके वजह से इस शताब्दी में तेज आर्थिक प्रगति संभव हो पा रहा है। जरा आज और आजसे 5 साल पहले की तुलना कीजिए, आप देखेंगे की लोगो के जो धन उपार्जन है वो कई गुना तक आज बढ़ सुका है।       


5. शिक्षा का मान उन्नतकरण: -  अपने गुरु को प्रश्न करना उनका अपमान है, परीक्षा में अधिक नंबर लाना ही एक शिक्षार्थी का उद्देश्य है - ये सभी पुराने शिक्षा पद्धिति का भाग होता था।

आधुनिकीकरण के प्रभाव से आज सब समझ सुके है की अपने गुरु को प्रश्न करना उनका अपमान नहीं होता बल्कि ज्ञान का सम्मान करना होता है और परीक्षा में अधिक नंबर पाने के पीछे दौरना मूर्खता से ज्यादा और कुछ भी नहीं, ज्ञान ही सूर्य है और उसका प्रयोग ही प्रकाश है।

इसके आलावा भी आधुनिकीकरण के जरिए डिजिटल शिक्षा, दूर शिक्षा, करिकारी शिक्षा आज संभव हो रहा है।
   

आधुनिकीकरण के हानि

आपको इस लेख के आरम्भ में ही बताया गया है की आधुनिकीकरण समाज को सीधा हानि नहीं करता। जब समाज या व्यक्ति इसको सही तरीके से प्रयोग नहीं कर पाता तभी ये हानिकारक हो जाता है और जो हानिकारक हो जाता है वो आधुनिक चरित्रों को वाहन करने में शक्षम नहीं रह पाता। उदहारण: -

1. अयौक्तिक स्वतंत्रता का प्रयोग: -  आधुनिकीकरण हमेशा ही मानव स्वतंत्रता को समर्थन करता है लकिन दोस्तों यही पर एक मुख्य बात आती है की अगर कोई व्यक्ति उस स्वतंत्रता को भोग करने के चक्कर में किसी दूसरे व्यक्ति की स्वतंत्रता को भंग करता है या भंग करने की कोसिस करता है तो वो आधुनिक सोच या आधुनिकीकरण नहीं कहलायेगा।


2. आलस पूर्ण जीवन: - आधुनिकीकरण के जरिए ही आज उद्पादन व्यबस्था में यंत्रो का व्यबहार तेज गति से हो रहा है। ये सारे यन्त्र मानव श्रम को कम करके उन्नत मान की जीवन-यापन के लिए ही बनाया गया है।

लकिन दोस्तों इसका अर्थ ये नहीं की हम कुछ भी काम ना करके एक आलसपूर्ण जीवन पार करे। आधुनिकतावाद हमेशा ही इसका विरोद्ध करता है। लकिन आज ये देखा गया है की बहुत सारे लोग ऐसे है जो कुछ काम नहीं करना चाहता इसके विपरीत केबल एक निश्कर्माआलस पूर्ण जीवन पार करना चाहते है।

आधुनिकीकरण के अपव्यबहार का ऐसे और कई सारे उदाहरण है। आप खुद सोचके भी इन उदाहरणों को निकाल सकते है।