Saturday, 9 February 2019

वैश्वीकरण का कृषि पर प्रभाव

वैश्वीकरण का कृषि पर प्रभाव


वैश्वीकरण का कृषि पर प्रभाव अत्यंत ही महत्वपूर्ण है। दोस्तों आधुनिक विश्व में इस विषय की तात्पर्य को समझके ही आज हमने इस लेख को आगे रखा है।  आशा करता हु की आपको अच्छा लगेगा।
वैश्वीकरण का कृषि पर प्रभाव
1. कृषि व्यबस्था में आधुनिकीकरण: - वैश्वीकरण का अर्थ ही है पुरे दुनिआ को एक दूसरे के साथ जुड़ना। आज तक पश्चिमी देशो में ही ज्यादातर आधुनिक कृषि पद्धिति का विकाश हुआ है। दोस्तों वैश्वीकरण के जरिए दुनिआ के बिभिन्न कोने तक इस पश्चिमी कृषि व्यबस्था का विस्तार होना आज संभव हो रहा है।

भारत जैसे देशो में पहले के समय में परंपरागत कृषि पद्धिति के जरिए ही कृषि कार्य किआ जाता था। लकिन आज वो परिस्थिति बदल सुका है।

वैश्वीकरण के कारण आज इस देश में भी पश्चिमी देशो की आधुनिक उन्नत मान की कृषि कार्य का फैलाव संभव हो पा रहा है। अधिक उन्नत मान के यन्त्र का व्यबहार, उन्नत मान के बीज का व्यबहार, ये सभी वैश्विकरण का ही फल है।

Related Articles: -

2. कृषि कार्य को व्यबसाइक रूप प्रदान: - वैश्वीकरण का प्रभाव दुनिआ में जब ज्यादा नहीं फैला था तब लोग जो जो भी उद्पादन करते थे उनका उद्देश्य केबल एक ही था, और वो था अपने जरूरतो को पूरा करना। उन उद्पादो को बेचने के लिए लोगो के पास कोई अच्छा बाजार व्यबस्था भी नहीं था।

इसीलिए लोग कृषि कार्य को किसी अच्छे व्यापर के रूप में नहीं देखते थे। लकिन आज पूरी दुनिआ एक छोटे से गांव में बदल सुकि है। आज जो जो भी कृषि उद्पादन हो रहा है, वो इस विश्व बाजार में बेच पाना संभव हो गया है। कृषि कार्य को व्यबसाइक रूप देना पाना वैश्वीकरण का एक बहुत ही बड़ा सफलता है।


3. अधिक उद्पादन: - वैश्वीकरण लोगो को वो सुबिधा प्रदान कर रहा है, जिसके माध्यम से कोई भी व्यक्ति दुनिआ के किसी भी कोने से बैठकर अन्य किसी कोने के व्यक्ति के साथ आराम से बात कर सकते है, आज लोग बड़े ही आसानी से दूर शिक्षा भी ग्रहण कर पा रहे है।

इस दूर शिक्षा का प्रभाव कृषि कार्य के ऊपर भी पर रहा है। जिसके कारणवर्ष लोगो को अच्छे अच्छे विशेष्यज्ञों की सलाह, उन्नत मान के कृषि पद्धिति का ज्ञान ये सभी प्राप्त हो रहा है। दोस्तों वर्तमान के समय में कृषि कार्य के जरिए अधिक उद्पादन होने का ये अन्यतम कारण है।


4. अंधविस्वास का पतन: - जैसा की हमने आपको तीसरे नंबर में बताया की वैश्वीकरण के जरिए दूर शिक्षा संभव हो पा रहा है, तो दोस्तों इस दूर शिक्षा का प्रभाव कृषि कार्य में भी आज पड़ रहा है।

पहले समय में क्या होता था की, कृषि कार्य के साथ समाज बहुत ही सारे अन्धबिस्वासो को मानके चलते थे। लकिन आज वो सारे अंधबिस्वास समाज से काफी हद तक पतित हो रहे है।

उदाहरण: - एक समय भारतवर्ष में अम्बुबासी मेला के दौरान लोग कोई भी कृषिजनित कार्य नहीं करते थे, लकिन आज इस देश के लोग ये सारे नियम काफी हद तक त्याग कर सुके है।